X Close
X
7499472288

शिकायत के बाद मुख्य विकास अधिकारी ने दिए जांच के आदेश


Lucknow:

स्वतंत्र प्रभात

सीडीओ ने जांच में दोषी पाए जाने पर कार्यवाही की बात कही 

रामसनेहीघाट ,बाराबंकी– प्रदेश के मुख्यमंत्री भले ही पूरी ईमानदारी के साथ जनहित में कार्य कर रहे हो किन्तु जम्पद में विकास कार्यो के नाम पर जमकर सरकारी धन की लूट की जा रही है एक तरफ बाढ़ खण्ड ग्राम पंचायत को अन्नापतिप्रमाण पत्र देकर मनरेगा योजना के तहत नाला सफाई के लिए आदेश देता है वही दूसरी तरफ अपनी तरफ से पौकलेण्ड मशीन से नाला सफाई करा कर दोनों तरफ से सरकारी धन का दुरुपयोग किया जा रहा है।

ब्लॉक बनीकोडर अन्तर्गत ग्राम पंचायत भेन्दुवा बहरेला में नाला सफाई के लिए वित्तीय वर्ष बाढ़ खण्ड चतुर्थ  द्वारा ग्राम पंचायत को अन्नापतिप्रमान पत्र गत 8,06,2020 को लंबाई तीन किमी खुदाई व सफाई के लिए कराए जाने की अनुमति इस आधार पर दी थी कि सिल्ट सफाई से निकली मिट्टी डिस्पोजल एव लेवलिंग ड्रेसिंग कर की जाय तथा लंबी छिनक के अनुसार निर्धारित चौड़ाई बीएड स्केप में भिन्नता न हो और अवर अभियंता की देखरेख में कई जाय तथा मनरेगा गाइडलाइंस के अनुसार ड्रेन की सिल्ट सफाई का कार्य कराया जाय और उक्त फोटो गर्फ़ कार्य शुरुआत व कार्य समाप्ति के बाद उपलब्ध कराया जाए उक्त निर्देश के क्रम में  ग्राम पंचायत द्वारा पूरे रजाईपुरवा नाला पुलिया से मनरेगा जाबकार्ड धारक मजदूरों को लगाकर सफाई कार्य शुरू कराया था नाला सफाई के नामपर महज खानापूर्ति की गई थी।

चुनाव आयोग द्वारा निर्वाचन तिथि घोषित किये जाने पर सफाई कार्य को बन्द कर दिया था। सम्पन चुनाव के बाद गठित ग्राम पंचायत के नव निर्वाचित ग्राम प्रधान द्वारा पुनः उसी नाले पर पांच दिन पूर्व वजीउद्दीनपुर के तालाब से नाला सफाई की शुरुआत जॉबकार्ड मजदूरों के माध्यम से चालू कराई थी।इस मामले को इस प्रतिनिधि ने ट्विटर के माध्यम से जब जांच की मांग की गई तो ग्राम पंचायत द्वारा तीन दिन के बाद कार्य को बन्द करा दिया और पुनः बाढ़ खण्ड चतुर्थ से परमिशन के लिए आवेदन किया किन्तु बाढ़ खण्ड द्वारा अनापत्ति प्रमाण पत्र नही दिया गया।
आज गुरुवार को सुबह बरसात के दौरान पौकलेण्ड मशीन से उक्त नाला की खुदाई की जा रही थी जिसपर सी डी ओ बाराबंकी से पौकलेण्ड मशीन से कार्य कराए जाने की शिकायत पर उन्होंने जांच व कार्यवाही की बात कही ।सी डी ओ के हस्तक्षेप पर खण्ड विकास अधिकारी श्रीमती सरिता गुप्ता ने जे ई आर ए एस व टी ए हरीश मिश्रा को मौके पर भेजकर मामले की पड़ताल पर मशीन चलती पाई गई ।

आश्चर्य तो इस बात का है कि जब बरसात आ गई और पूर्व में ग्राम पंचायत को बाढ़ खण्ड के अधिशासीअभियंता चतुर्थ द्वारा अपने पात्रक सख्या 778/08,06,2020 को ग्राम पंचायत को अनापति प्रमाण पत्र फे दिया था तो पुनः उस नाले पर मशीन से कार्य क्यों कराया जा रहा था। खण्ड विकास अधिकारी का कहना है कि नाला सफाई बाढ़ खण्ड करा रहा है ग्राम पंचायत से कोई लेना देना नही है अगर बाढ़ खण्ड करा रहा है तो टेंडर कब निकाला गया और कौन ठेकेदार द्वारा कार्य कराया जा रहा है इस सम्बंध में जब बाढ़ खण्ड अधिकारी से मोबाइल पर सम्पर्क किया गया तो फोन रिसीव नही हुआ।

 

 

 

The post शिकायत के बाद मुख्य विकास अधिकारी ने दिए जांच के आदेश appeared first on दैनिक स्वतंत्र प्रभात हिंदी अख़बार.